HomeLove ShayariIshq ne Ghalib Nikamma kar diya Shayari | Mirza Ghalib Shayari

Ishq ne Ghalib Nikamma kar diya Shayari | Mirza Ghalib Shayari

Miza Ghalib Shayari:- दोस्तो क्या आपको भी Ishq ne Nikamma kar diya hai और आप भी Ishq ne Ghalib Nikamma kar diya shayari की तलाश में है। इस लिए आज हम इस पोस्ट में शेयर करने जा रहे Ishq ne Ghalib nikamma kar diya shayari Whatsapp status, Mirza Ghalib shayari In Hindi, Mirza Ghalib Status in Hindi.

Ishq ne Ghalib Nikamma kar diya Shayari
Ishq ne Ghalib Nikamma kar diya Shayari

Ishq ne Ghalib Nikamma Kar diya Shayari

❝ फिर इश्क़ का जुनूं चढ़ रहा है सिर पे ,
मयख़ाने से कह दो दरवाज़ा खुला रखे ! ❞

❝ सारा गुनाह इश्क़ का, उसपे ही डाल दो
मुज़रिम उसे बनाकर मुसीबत को ताल दो
ये चमन जहाँ खिला एक फूल मुस्कुराता
उसे तोड़कर रकीबों की तरफ उछाल दो . ❞

❝ सोचा था इस क़दर उन्हे भूल जाएँगे,
देख कर भी अनदेखा कर जाएँगे,
पर जब जब आया सामने उसका चेहरा…
सोचा इस बार देखलेते हे, अगली बार भूल जाएँगे….! ❞

❝ दिल की आवाज़ को इज़हार कहते हैं,
झुकी निगाह को इक़रार कहते हैं,
सिर्फ़ पाने का नाम इश्क़ नहीं,
कुछ खोने को भी प्यार कहते हैं ❞

❝ मुझसे अपना प्यार कभी वापस मत लाना
मुझसे ये इक़रार कभी वापस मत लाना
कहते रहना हर पल मैं तुम्हारी हू
मुझ सई ये इज़हार कभी वापस मत लाना !! ❞

❝ अगर मोहब्बत नही थी
तो बता दिया होता;
तेरे एक चुप ने
मेरी ज़िन्दगी तबाह कर दी! ❞

❝ सजते दिल मे तराने बहुत है,
ज़िंदगी जीने के बहाने बहुत है,
आप सदा मुस्कुराते र्हइए,
आपकी मुस्कुराहट के दीवाने बहुत है… ❞

❝ मैं मार जौन तो मेरा जिस्म जला देना,
लेकिन उसमे से दिल निकल लेना,
मुझे परवाह नही जलनेकी,
मुझे परवाह है उसमे रहने वेल की… ❞

❝ वो रोए तो बहुत, पर मुझसे मूह मोड़ कर रोए
कोई मजबूरी होगी तो दिल तोड़ कर रोए
मेरे सामने कर दिए मेरे तस्वीर के टुकड़े
पता चला मेरे पीछे वो उन्हे जोड़ कर रोए ❞

❝ दर्द ही सही मेरे इश्क़ का इनाम तो आया,
खाली ही सही हाथों में जाम तो आया,
में हूँ बेवफा सबको बेताया उसने,
यूँ ही सही, उसके लाभों पे मेरा नाम तो आया…! ❞

❝ अछा हुआ मालूम हो गया, अपनो की मोहब्बत अब
मोहब्बत नही रही….
वरना हम तो अपना घर भी चोर्ड रहे थे, उनके
दिल मैं रहने के लिए…. ❞

❝ लोगों से सुनते थे मोहब्बत के अफ़साने
खुवाब हम ने भी देखहे थे सुहाने
प्यार क्या है ?
हम अक्सर सोचते थे
इस बात से हम अपने दिल को रोकते थे
लेकिन अब तुम्हाइन इस दिल मैं बसा कर
यह ख़ाता एक बार करना चाहता है ❞

❝ चाँद बदन को चूम रहा है, दरिया गुमसुम लेटी है
पंखा झलती है हवाएँ, हलचल थोड़ी होती है
बादलों की छत से सितारे, देख रहे हैं आँखे फाड़े
बैठ गगन भी सोच रहा है, धरती सुंदर लगती है . ❞

❝ राझ खोल देते हैं नझूक से इशारे अक्सर;
कितनी खामोश मोहब्बात की झुबान होती है! ❞

❝ ऐसा लगता है मुझे तू रातभर सोयी नहीं
खा कसम मेरी कि तू रातभर रोयी नहीं
बन गयी है जुल्फें तेरी उजड़ी-उजड़ी सी बहार
आँधियों में घिर के भी तू चमन से गई नहीं ❞

❝ यूँ तो सिखाने को ज़िन्दगी
बहुत कुछ सिखाती है…!!
मगर—
झूठी हंसी हँसने का हुनर तो
बस मोहब्बत ही सिखाती है…!! ❞

Two Line Mirza Ghalib Shayari

❝ तू आशिक़ है मेरा, मैं तेरी दीवानगी
मोहब्बत में सनम, मैं तेरी हो चली ❞

❝ दिल अपने आप धड़कता है, धड़काया नहीं जाता,
यह राज़-ए-मोहब्बत हर-एक को बताया नहीं जाता,
अगर एहसास हो तो मोहब्बत को कर-लो महसूस…
यह वो जज़्बा है जो लफ़ज़ो-मे समझाया नहीं जाता. ❞

❝ आए बारिश ज़रा थम के बरस,
जब मेरा यार आ जाए तो जूम के बरस,
पहले ना बरस को वो आ ना सके,
फिर इतना बरस की वो जा ना सके….. ❞

❝ चाहे कोई भी मौसम हो, सबको मैं अपनाता हूँ
न कोई अपना, न ही पराया, सबको गले लगाता हूँ
एक कयामत जब है गुजरती, दूजी कयामत आती है
जीवन के इस सच को भी मैं आठों पहर दुहराता हूँ ❞

❝ दास्तान-ए-इश्क़ मैं सबको सुनती चली गयी;
वो धाते रहे सितम मैं मुस्कुराती चली गयी;
ना थी मुझे परवाह कोई, ना था किसी का दर;
गमों के सैलबों से मैं यूँ ही टकराती चली गयी! ❞

❝ इश्क़ पर ज़ोर नहीं, यह वो आतिश ग़ालिब;
के लगाए ना लगे और बुझाए ना बुझे। ❞

❝ तेरी मोहब्बत में गिरफ्तार हो गया.
ना जाने कियों तुम से प्यार हो गया.
कोई है दिल जो धड़कता है मेरे लिए,
उस धड़कन पे मैं निस्सार हो गया. ❞

❝ तमन्ना-ए-इश्क़ तो हम भी रखते है,
किसिके दिल्मे हम भी धड़कते है,
ना जाने हमे वो कब मिलेंगे,
जिनके लिए हम तड़प्ते है… ❞

❝ एक ही तमन्ना है इस फकीर के पास’
मेरी तस्वीर लगाना अपनी तस्वीर के पास’
जब लोग देखे उसे तो ये कहे ‘देखो..
रांझा कैसे बैठा है अपनी हीर के पास ❞

❝ ना इश्क़ का इज़हार किया,
ना ठुकरा सके हमें वो;
हम तमाम ज़िंदगी मज़लूम रहे,
उनके वादा मोहब्बत के। ❞

❝ कौन काहेता ही तुमसे जुदाई होगी.
ये अफवाहें किसी और ने फेयैलेयी होगी
शान से रहें गे तुमहरे दिल में हम
एटने दीनौन में हम ने कुछ तो जगह बनाई होगी. ❞

❝ मे तो था बड़ा पहलवान, पर मेरे दिल ने मूझे कर दिया बेहाल,
क्या करू, कहा जाऊ, जियु या मार जाऊ, जो भी हो अब तो मे,
तेरे बिन एक पल भी ना रह पाऊ. ❞

❝ मिलके नज़रसे नज़र लूट लेंगे,
ये बेवफा जलवे जिगर लूट लेंगे,
हसीणोपे हरगिज़ भरोसा ना करना,
खुदकी कसम ये घरके घर लूट लेंगे… ❞

❝ एक वादा था मेरे हर वादे के पीछे,
मई मिलूँगा तुज़से हर गली, हर दरवाज़ा के पीछे.
पर तुम ने ही मुदके ना देखा..
एक और जनाज़ा था तेरे जनसे के पीछे” ❞

❝ इश्क की बेमिसाल मूरत हो आप,
मेरी ज़िंदगी की एक ज़रूरत हो आप,
फूल तो बहोत प्यारे होते ही हे,
पर फूलो से भी बहोत खूबसूरत हो आप. ❞

❝ गीला आप से नही कोई,
गीला हम अपनी मजबूरियों से करते हैं.
आप आज हमारे करीब ना सही…..
मोहब्बत तो हम आपकी दूरियों से भी करते हैं… ❞

❝ लोग इश्क़ में जान देने की बात करते हैं,
मगर देता कोई नही.
हम तो हथेली पर जान लिए घूमते हैं,
कम्बख़्त कोई माँगता ही नही… ❞

❝ जब से एक अजनबी को अपने दिल में बसाया है,
तब से मेरी ज़िंदगी का हर रंग निखार आया है.
हर लम्हा हर जगह बस उसी का होता है दीदार…
अब तो कुद्रट का हर जलवा हसीन नज़र आया है. ❞

❝ अगर तुम न होते तो ग़ज़ल कौन कहता!
तुम्हारे चहरे को कमल कौन कहता!
यह तो करिश्मा है मोहब्बत का!
वरना पत्थर को ताज महल कौन कहता! ❞

❝ मेरे जज़्बात मेरी पहचान है वो;
मेरी जूसतजू मेरी शान है वो;
लोग कहते हैं भुला दूं मैं उसे;
पर कैसे भुला दूं यारो इस सीने मे धड़कट्ी जान है वो! ❞

❝ एक पल में जो गुज़र जाए यह हवा
का वो झोका है और कुछ नही;
प्यार कहती है दुनिया जिसे
एक रंगीन धोखा है और कुछ नही! ❞

❝ बेबसी जुर्म है, होसला जुर्म है,
ज़िंदगी तेरी हर एक अदा जुर्म है,
आए सनम तेरे बारेमे कुछ सोचकर
अपने बारेमे सोचना जुर्म है… ❞

Mirza Ghalib Status In Hindi

❝ शेर लोगोन के बहूत याद हैं औरोन के लिये;
तू मिळे तो मैं तुझे शेर सुनाओन अपने! ❞

❝ हर गली हर जगह दिया जलाना,
हर बाग मे फूल खिलाना.
इस दुनिया मे सब कुछ कर लेना,
सिर्फ़ हम से मोहब्बत मत कर लेना. ❞

❝ बात दिन की नही, अब रात से दर लगता है
घर है कच्चा मेरा, बरसात से दर लगता है
तेरे तोहफे ने तो बस खून के आँसू ही दिए
ज़िंदगी अब तेरी सौगात से दर लगता है ❞

❝ चाहे तो हमे दिल से मिटा-देना,
चाहे तो हमे दिल से भुला-देना,
मगर आए जो कभी मेरे याद,
आए जान…. रोना मत, सिर्फ़ मुस्कुरा-देना. ❞

❝ हर नज़रको एक निगाह का हक़ है,
हर रूह को एक आ का हक़ है,
हम भी दिल लेकर आए है इस दुनियामे,
हमे भी प्यार करने का हक़ है… ❞

❝ वो मिले हमको कहानी बनकर,
दिलमे रहे प्यर्की निशानी बनकर,
हम जिन्हे जगह देते है आँखोनके अंदर
वो अक्सर निकल जाते है पानी बनकर… ❞

❝ चांदणी रात बर डेर के बाद आई;
ये मुलक़ट बर डेर के बाद आई;
आज आए हैं वो मिळणे को बर डेर के बाद;
आज की रात बर डेर के बाद आई! ❞

❝ इस कदर हम उनकी मुहब्बत में खो गए!
कि एक नज़र देखा और बस उन्हीं के हम हो गए!
आँख खुली तो अँधेरा था देखा एक सपना था!
आँख बंद की और उन्हीं सपनो में फिर सो गए! ❞

❝ अकेला सा महसूस करो जब तन्हाई मे,
याद मेरी आए जब जुदाई मे,
महसूस करना तुम्हारे करीब हू मे,
जब चाहे देख लेना अपनी ही परछाई मे. ❞

❝ याद आए कभी तो आँखें बंद ना करना,
हम चले जाए तो गम ना करना,
यह ज़रूरी नही हर रिश्ते का कोई नाम हो,
पर दोस्ती का एहसास दिलसे कम ना करना… ❞

Ishq ne Ghalib Nikamma Kar diya WhatsApp Status

❝ वो नकाब लगा कर खुद को
इश्क से महफूज़ समझते रहे;
नादां इतना भी नहीं समझते कि इश्क
चेहरे से नहीं आँखों से शुरू होता है! ❞

❝ प्यार कमजोर दिल से किया नहीं जा सकता!
ज़हर दुश्मन से लिया नहीं जा सकता!
दिल में बसी है उल्फत जिस प्यार की!
उसके बिना जिया नहीं जा सकता! ❞

❝ हम तस्लीम करते हैं,
हमें फुर्सत नहीं मिलती,
मगर ये भी ज़रा सोचो,
तुम्हें जब याद करते हैं,
ज़माना भूल जाते हैं| ❞

❝ मोहब्बतके दीपक को जलाकर तो देखो,
डिलकी दुनिया को सजाकर तो देखो
तुम्हे हो ना जाए मोहब्बत तो कहना,
कभीहमसे नज़र मिलकर तो देखो… ❞

❝ क्या ज़रूरी है कि हम हार के जीतें ‘तबिश’;
इश्क़ का खेल बराबर भी तो हो सकता है! ❞

❝ जनाजा रोक कर वो मेरा
कुछ इस अन्दाज़ मे बोले;
गली छोड्ने को कहा था,
तुमने तो दुनियां ही छोड दी। ❞

❝ इश्क की चोट का कुछ
दिल पे असर हो तो सही;
दर्द कम हो कि ज्यादा हो,
मगर हो तो सही। ❞

❝ वो थे न मुझसे दूर न मैं उनसे दूर था;
आता न था नज़र तो नज़र का कुसूर था। ❞

❝ एक अलग सा शायर मुझमे जगाया है,
मुझे इस्कदर दीवाना बनाया है
पल पल तुझको पास मैं पति हूँ,
एक नज़म उधेर एन कलाम का उबाल आया है ❞

Final Words on Mirza Ghalib Shayari

दोस्तो आपको Mirza Ghalib की सी शायरी पसंद है हमे कमेंट बॉक्स में कमेंट जरूर करे और अगली पोस्ट Mirza Ghalib की कौन सी शायरी पर चाहिए हमे कमेंट जरूर करे। दोस्तो आप Ishq ne Ghalib Nikamma kar diya shayari, Ghalib mirza shayri in hindi, ghalib mirza status, Ghalib mirza की शायरी आप अपने WhatsApp status aur Facebook पर अपने दोस्तो के साथ शेयर कर सकते है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments